Rated 4.0/5 based on 100
Awesome Book - by , @book.updated_at
5/ 5stars
This is an awesome book, we should definitely buy it.
1857 Ka Swatantra Samar

Book Specification

Binding Paperback
Language Hindi
Number Of Pages 424
Author Vinayak Damodar Savarkar
Publisher Prabhat Prakashan
Isbn-10 9386300087
Isbn-13 9789386300089
Dimension

1857 Ka Swatantra Samar

Vinayak Damodar Savarkar's 1857 Ka Swatantra Samar

वीर सावरकर रचित '१८५७ का स्वातंत्र्य समर' विश्व की पहली इतिहास पुस्तक है, जिसे प्रकाशन के पूर्व ही प्रतिबंधित होने का गौरव प्राप्त हुआ। इस पुस्तक को ही यह गौरव प्राप्त है कि सन् १९०९ में इसके प्रथम गुप्त संस्करण के प्रकाशन से १९४७ में इसके प्रथम खुले प्रकाशन तक के अड़तीस वर्ष लंबे कालखंड में इसके कितने ही गुप्त संस्करण अनेक भाषाओं में छपकर देश-विदेश में वितरित होते रहे। इस पुस्तक को छिपाकर भारत में लाना एक साहसपूर्ण क्रांति-कर्म बन गया। यह देशभक्त क्रांतिकारियों की 'गीता' बन गई। इसकी अलभ्य प्रति को कहीं से खोज पाना सौभाग्य माना जाता था। इसकी एक-एक प्रति गुप्त रूप से एक हाथ से दूसरे हाथ होती हुई अनेक अंतःकरणों में क्रांति की ज्वाला सुलगा जाती थी। पुस्तक के लेखन से पूर्व सावरकर के मन में अनेक प्रश्न थे-सन् १८५७ का यथार्थ क्या है?क्या वह मात्र एक आकस्मिक सिपाही विद्रोह था? क्या उसके नेता अपने तुच्छ स्वार्थों की रक्षा के लिए अलग-अलग इस विद्रोह में कूद पड़े थे, या वे किसी बड़े लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एक सुनियोजित प्रयास था? यदि हाँ, तो उस योजना में किस-किसका मस्तिष्क कार्य कर रहा था?योजना का स्वरूप क्या था?क्या सन् १८५७ एक बीता हुआ बंद अध्याय है या भविष्य के लिए प्रेरणादायी जीवंत यात्रा?भारत की भावी पीढि़यों के लिए १८५७ का संदेश क्या है? आदि-आदि। और उन्हीं ज्वलंत प्रश्नों की परिणति है प्रस्तुत ग्रंथ-'१८५७ का स्वातंत्र्य समर'! इसमें तत्कालीन संपूर्ण भारत की सामाजिक व राजनीतिक स्थिति के वर्णन के साथ ही हाहाकार मचा देनेवाले रण-तांडव का भी सिलसिलेवार, हृदय-द्रावक व सप्रमाण वर्णन है। प्रत्येक देशभक्त भारतीय हेतु पठनीय व संग्रहणीय, अलभ्य कृति!
Store Price Buy Now
Amazon, Paperback Rs. 237.0

Why you should read 1857 Ka Swatantra Samar by Vinayak Damodar Savarkar

This book has been written by Vinayak Damodar Savarkar, who has written books like 1857 Ka Swatantraya samar,1857 Ka Swatantra Samar,Mera Aajeevan Karavas,Savarkar Samagra - X,Savarkar Samagra - IX. The books are written in Books,Exam Preparation,Political Ideologies category. This book is read by people who are interested in reading books in category : Exam Preparation. So, if you want to explore books similar to This book, you must read and buy this book.

Other books by same author

Book Binding Language
1857 Ka Swatantraya samar Hardcover Hindi
1857 Ka Swatantra Samar Paperback Hindi
Mera Aajeevan Karavas Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - X Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - IX Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - VIII Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - VII Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - VI Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - IV Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - V Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - III Hardcover Hindi
Savarkar Samagra - II Hardcover Hindi
1857 Ka Swatantraya Samar Hardcover Hindi
Mera Aajeevan Karavas Hardcover Hindi
Kala Pani Hardcover Hindi
1857 ka Swatantraya Samar Paperback Hindi
Mazhi Janmthep Paperback Marathi

How long would it take for you to read 1857 Ka Swatantra Samar

Depending on your reading style, this is how much time you would take to complete reading this book.

Reading Style Time To Finish The Book
Slow 84 hours
Average 42 hours
Good 28 hours
Excellent 14 hours
So if you are a Reader belonging in the Good category, and you read it daily for 1 hour, it will take you 28 days.
Note: A slow reader usually reads 100 words per minute, an average reader 200 words per minute, an average reader 300 words per minute and an excellent leader reads about 600-1000 words per minute, however the comprehension may vary.

Searches in World for 1857 Ka Swatantra Samar

City Country Count
19
Top Read Books

Top Reads